Hinglishpedia

Isbagol ki bhoosi ke fayde aur nuksan. Benefits & Side-effects of Isabgol in Hindi.
ईसबगोल की भूसी को पेट के लिए सबसे ज्यादा लाभदायक माना जाता हैं। आज हम ईसबगोल की भूसी को खाने के फायदे, नुक्सान और इसे कैसे खाना चाहिए, इसके बारे में आपको बताएँगे।

Benefits & Side-Effects of Isabagol in Hindi.

ईसबगोल का नाम सुनकर आपको हंसी आ जाये लेकिन इसके लाभ जानकर आपको बहुत हैरानी होगी। यह आपको स्वस्थ्य बनाए रखने में आपकी सहायता करता हैं। आमतौर पर कब्ज़ की समय को दूर करने में इसका इस्तेमाल किया जाता हैं।

ईसबगोल क्या चीज़ हैं? 


ईसबगोल को इंग्लिश में Psyllium husk कहा जाता हैं। ईसबगोल वास्तव में Plantago Ovata नाम के पौधे का बीज होता हैं। इस पौधे की पत्तियाँ एक दम एलो वेरा पौधे की फोटोकॉपी होती हैं। इस पौधे में गेंहू की तरह बड़े बड़े बाल या फूल आते हैं। ईसबगोल का आयुर्वेद में बहुत ज्यादा महत्व हैं।

कब्ज़ को कैसे दूर करना हैं ईसबगोल ? 


ईसबगोल में प्राकृतिक रूप से एक चिपचिपा पदार्थ पाया जाता हैं। जब ईसबगोल की भूसी को पानी में भिगोते हैं तो यह एक जैल को पैदा करता हैं। यह जैल बिना रंग और स्वाद वाला होता हैं। इसमें लैक्सटिव गुण पाए जाते हैं, जिससे यह आंत की सफाई करता हैं और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं। यह दुसरे पोषक तत्व को नहीं सोखता हैं क्योंकि इस पर किसी भी Digestive Enzyme का कोई प्रभाव नहीं पड़ता हैं। इसके अलावा यह आंत में मौजूद बैक्टीरिया और हानिकारक toxins को सोख लेता हैं। साथ ही यह अंत की परत पर चिकनाहट लाता हैं

Adults के लिए 7 से 10 ग्राम या 4 से 6 चम्मच के बराबर इसबगोल दिन में एक से तीन बार पानी या किसी जूस के साथ लेने की सलाह दी जाती हैं। इसे लेने से पहले इसे पूरी रात पानी में अच्छी तरह से भिगो देना चाहिए।  

ईसबगोल की भूसी के फायदे और इसे लेने के तरीके :-



1. डायबिटीज को कण्ट्रोल करे :- ईसबगोल में Natural Gelatin पाया जाता हैं जो शरीर के ग्लूकोज के सोखने और इसे टूटने को धीमा करता हैं। मतलब यह ग्लूकोज़ के सेवन को कम करने साथ यह डायबिटीज को कण्ट्रोल करता हैं। 

कैसे ले :- पानी के साथ खाना खाने के बाद

2. कोलोन को साफ़ करता हैं :- ईसबगोल में नेचुरल  हाइग्रोस्कोपिक होता हैं। कोलोन में जाने के बाद यह AMA नाम के हानिकारक toxins को सोख लेता हैं। इससे आप सेहत से जुड़ी कई सारी समस्याओं से निजात पा सकते हैं।

लेने का तरीका :- महीने में 3 से 4 दिन सोने से पहले इसे गुनगुने पानी के साथ ले।

3. बवासीर से दिलाये राहत :- इसबगोल में मौजूद लैक्सटिव गुण होता हैं जो नेचुरल बाउल मूवमेंट में मददगार होता हैं। इसे हाई क्वालिटी का घुलनशील और अघुलनशील फाइबर होता हैं, जिस कारण यह बवासीर से राहत दिलाता हैं।

कैसे करे इस्तेमाल :- रात को सोने से पहले पानी के साथ ईसबगोल का सेवन करे। ऐसा तब तक करे जब तक आपकी हालत सुधर नहीं जाती हैं।

4. कब्ज़ दूर करे :- ईसबगोल में फाइबर और नेचुरल लैक्सटिव पाया जाता हैं। जिससे यह कब्ज़ को दूर करने में मदद करता हैं।

लेने का तरीका :- ईसबगोल को पानी में 5 से 6 घंटे तक भिगो कर फूला ले। रात को सोने से पहले इसे आप गुनगुने दूध के साथ पिए।

5. पाचन को बढ़ाए :- फाइबर की वजह से यह पाचन में सहायता करता हैं। यह पेट में मौजूद गन्दगी को साफ़ करता हैं और आंतो को भी साफ करता हैं।

कैसे करे उपयोग :- पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए इसे लस्सी या छाछ के साथ खाना खाने के बाद लेना चाहिए।

6. एसिडिटी से राहत दिलाये :- यह पेट की एसिडिटी को दूर करने में मदद करता हैं।

कैसे ले :- ईसबगोल को ठण्डे पानी के साथ खाना खाने के बाद ले।

7. डायरिया के इलाज में फायदेमंद :- क्या आपको मालूम हैं की ईसबगोल कब्ज़ दूर करने के साथ साथ डायरिया को भी दूर करने में मदद करता हैं। इसे दही के साथ लेने से डायरिया में आराम मिलता हैं।

लेने का तरीका :- 4 चम्मच ईसबगोल को 8 चम्मच फ्रेश दही के साथ मिला कर खाना खाने के बाद ले। बेहतर परिणाम के लिए इसे दिन में 2 बार खाए।

8. दिल के लिए फायदेमंद :- दिल को स्वस्थ्य रखने के लिए ईसबगोल बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता हैं। इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित रहता हैं और पेट और आंतो में तैलीय पदार्थ नहीं जमता हैं। साथ ही फैट को बढ़ने से रोकता हैं। 

कैसे करे सेवन :- दिन में 2 बार खाना खाने के तुरंत बाद इसका सेवन करे।

9. वजन कम करने में फायदेमंद :- इसकी सहायता से आप भूख को कण्ट्रोल कर सकते हैं। यह पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं और कोलोन को साफ़ करता हैं। इसलिए वजन कम करने में यह काफी लाभकारी सिद्ध होता हैं।

कैसे ले :- ईसबगोल को पानी में मिला कर मिश्रण तैयार करे और फिर इसमें निम्बू का रस मिलाये। सुबह खाली पेट इसे पीजिये।

ईसबगोल से होने वाले नुकसान :- 

ईसबगोल से कोई एलर्जिक रिएक्शन नहीं होता हैं। ईसबगोल के नुकसान शायद ही होते हो। लेकिन फिर भी इसे बहुत ज्यादा मात्रा में नहीं लेना चाहिए। और हमेशा इसे लेने के लिए पानी में भिगो कर ही इसका इस्तेमाल करे। वैसे तो ईसबगोल के कोई साइड-इफ़ेक्ट और एलर्जिक रिएक्शन नहीं होता हैं, लेकिन अगर ऐसा हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। अगर आपको कभी अपेंडिक्स या पेट में ब्लॉकेज की समस्या रही हो तो इसे बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेना चाहिए। 

क्या प्रेगनेंसी में इसे ले सकते हैं? 

ईसबगोल का सेवन प्रेगनेंसी में सुरक्षित माना जाता हैं, लेकिन फिर भी इसे डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं लेना चाहिए। 

इसबगोल को कहाँ से खरीदना चाहिए? 

यह आपको लगभग सभी किराणा स्टोर, मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिल जाता हैं। साथ ही आप इसकी ऑनलाइन खरीदारी भी कर सकते हैं। लेकिन इसे खरीदने से पहले यह जान ले की आपको फ्लेवर वाला ईसबगोल की बजाये नेचुरल इसबगोल को खरीदना चाहिए। ईसबगोल की कैप्सूल कभी नहीं खरीदनी चाहिए। बाज़ार में किसी भरोसेमंद कंपनी का ही ईसबगोल की भूसी को खरीदना चाहिए।

सारांश :- सारांश यह हैं की ईसबगोल की भूसी पेट के लिए बहुत ही फायदेमंद होती हैं, पेट से ही कई बीमारियों को शुरवात होती हैं। ईसबगोल की भूसी के कोई दुष्परिणाम भी नहीं देखने को मिलते हैं। अपने आप को स्वस्थ्य रखने के लिए इसबगोल का सेवन जरूर करे।
loading...


 
Top